[Latest News][6]

गैलरी
देश
राजनीति
राज्य
विदेश
व्यापार
स्पोर्ट्स
स्वास्थ्य

बदकिस्मत मानते थे लोग, हीरो बनने आए खय्याम ऐसे बन गए संगीतकार

मुंबई    :   ‘खय्याम’ के नाम से मशहूर दिग्गज संगीतकार मोहम्मद ज़हूर खय्याम का 92 साल की उम्र में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया. सीने में संक्रमण और निमोनिया की शिकायत के बाद उन्हें पिछले महीने 28 जुलाई को मुंबई के सुजय अस्पताल में भर्ती कराया गया था. खय्याम पिछले लंबे वक्त से लोगों के पसंदीदा रहे हैं और उन्होंने जितनी भी धुनें बनाई हैं वो एवरग्रीन हैं.  
उन्होंने जिन गानों की धुनें बनाई हैं वो आज भी करोड़ों लोगों की प्लेलिस्ट में मौजूदगी दर्ज कराती हैं. संगीत की दुनिया के इस बेताज बादशाह की जिंदगी काफी फिल्मी रही है.खय्याम के बारे में कम ही लोग ये बात जानते हैं कि बॉलीवुड के कुछ सबसे यादगार गानों का संगीत बनाने के बाद भी लोग उन्हें बदकिस्मत मानते थे. आइए जानते हैं खय्याम की जिंदगी से जुड़े कुछ दिलचस्प तथ्य. ‘फिर सुबह होगी’ के अलावा जिन फिल्मों में उनके संगीत की काफी चर्चा हुई, उनमें कभी-कभी,‌ उमराव जान, थोड़ी सी बेवफाई, बाजार, नूरी, दर्द, रजिया सुल्तान, पर्वत के उस पार, त्रिशूल जैसी‌ फिल्में शुमार हैं. खय्याम बचपन में परिवार से छिप छिपाकर फिल्में देखा करते थे. उन दिनों फिल्में देखना अच्छी आदत नहीं माना जाता था इसलिए खय्याम को उनके इस शौक के चलते घर से निकाल दिया गया था. शुरू में वह हीरो बनना चाहते थे. उन्होंने कुछ वक्त तक इसके लिए प्रयास भी किया लेकिन बाद में उनकी दिलचस्पी संगीत की तरफ बढ़ने लगी.  खय्याम ने पहली बार फिल्म हीर रांझा में संगीत दिया लेकिन उन्हें पहचान मिली मोहम्मद रफी के गाने ‘अकेले में वह घबराते तो होंगे’ से. फिल्म शोला और शबनम ने उन्हें संगीतकार के रूप में इंडस्ट्री में स्थापित कर दिया. खय्याम के संगीत की दुनिया दीवानी थी लेकिन कम ही लोग इस बात को जानते हैं कि फिल्म उमरावजान का संगीत बनाते वक्त उन्हें डर लगा था. वजह ये थी कि पाकीजा और उमराव जान फिल्म का बैकग्राउंड लगभग एक जैसा था. पाकीजा जबरदस्त हिट रही थी. ऐसे में उमराव जान के संगीत को वह एक चुनौती की तरह ले रहे थे.संगीतकार खय्याम काफी पॉपुलर थे लेकिन कुछ मामलों में वह बदकिस्मत भी रहे. इतनी लोकप्रिय धुनें बनाने के बाद भी उनका संगीत कभी सिल्वर जुबली नहीं कर पाया था. खय्याम ने एक इंटरव्यू में बताया, “यश चोपड़ा अपनी एक फ़िल्म का म्यूज़िक मुझसे करवाना चाहते थे. लेकिन सभी उन्हें मेरे साथ काम करने के लिए मना कर रहे थे. उन्होंने मुझे कहा भी था कि इंडस्ट्री में कई लोग कहते हैं कि खय्याम बहुत बदकिस्मत आदमी हैं और उनका म्यूज़िक हिट तो होता है लेकिन जुबली नहीं करता.”  साभार  आजतक

About Author Umesh Nigam

crime reporter.

No comments:

Post a Comment

Start typing and press Enter to search