[Latest News][6]

गैलरी
देश
राजनीति
राज्य
विदेश
व्यापार
स्पोर्ट्स
स्वास्थ्य

बुमराह ने बताया ‘टीम कोहली’ की सफलता का रहस्य, कहा- दो चीजों को गंभीरता से नहीं लेता

मुंबई  :    वनडे क्रिकेट में सबसे तेज 100 विकेट लेने वाले दूसरे भारतीय तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने कहा है कि उनके लिए तारीफ और आलोचना ज्यादा मायने नहीं रखती है. बुमराह ने श्रीलंका पर मिली जीत के बाद कहा, ‘मैं तारीफों और आलोचनाओं को ज्यादा गंभीरता से नहीं लेता. मेरा ध्यान सिर्फ तैयारी, योजनाओं के क्रियान्वयन और मैं टीम के लिए क्या कर सकता हूं, इसी पर रहता है.’
उन्होंने कहा, ‘मेरा ध्यान हमेशा इसी बात पर रहता है. जहां तक गेंदबाजों का सवाल है, हम खुश हैं कि सभी विकेट ले रहे हैं और टीम के लिए अपना योगदान दे रहे हैं.’बुमराह का मानना है कि भारतीय गेंदबाज एक संतोषजनक स्थिति में हैं क्योंकि वे नियमित अंतराल पर विकेट चटका रहे हैं.तेज गेंदबाज ने कहा, ‘हार्दिक पांड्या विकेट ले रहे हैं और मोहम्मद शमी भी. मुझे भी विकेट मिले हैं और यह हमें अगले मैचों में और बेहतर करने में मदद कर रहा है. सभी ने अभी तक अच्छा खेला है और यह अभियान अच्छा जा रहा है. हर कोई विकेट ले रहा है और बल्ले के साथ अच्छा कर रहा है.’बुमराह ने कहा कि टीम की सफलता का रहस्य यह है कि खिलाड़ियों में चुनौतियों का सामना करने और जिम्मेदारी लेने की क्षमता है.उन्होंने कहा, ‘हर कोई जिम्मेदारी ले रहा है और यह अच्छी बात है. जब आप पर ज्यादा जिम्मेदारी होती है तो आप और ज्यादा कोशिश करते हैं और अपनी योजनाओं को ठीक से लागू करते हैं. यह हमारे लिए अच्छे संकेत हैं.’यॉर्करमैन ने साथ ही कहा, ‘विश्व कप के अधिकतर मैचों में हमने पांच गेंदबाजों से ही गेंदबाजी कराई है और पूरे टूर्नामेंट के दौरान ऐसा ही होने की संभावना है.’भारत के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने श्रीलंका के लसिथ मलिंगा को महान बताते हुए कहा कि उन्हें उनके साथ और उनके विरुद्ध खेलकर गर्व महसूस हुआ. बुमराह इंडियन प्रीमियर लीग (ईपीएल) में मुंबई इंडियंस के लिए मलिंगा के साथ खेले जबकि राष्ट्रीय टीम के लिए खेलते हुए दोनों खिलाड़ियों ने एक-दूसरे का सामना किया.बुमराह ने शनिवार को ट्वीट किया, ‘आपके साथ और आपके खिलाफ खेलकर गर्व महसूस हुआ लेजेंड.’ श्रीलंका की टीम हालांकि, मलिंगा को जीत के साथ विदा नहीं कर पाई और भारत के खिलाफ इस संस्करण के आखिरी मैच में श्रीलंका को सात विकेट से करारी हार झेलनी पड़ी.मलिंगा अपने आखिरी मैच में 10 ओवर में 82 रन देकर केवल एक विकेट ही ले पाए. बुमराह 2013 में मुंबई इंडियंस में पहली बार मलिंगा से मिले थे और तबसे दोनों के बीच गहरी दोस्ती है. उन्होंने यॉर्कर और स्लोअर गेंद डालने की कला मलिंगा से ही सीखी. साभार  आजतक

About Author Umesh Nigam

crime reporter.

No comments:

Post a Comment

Start typing and press Enter to search