[Latest News][6]

गैलरी
देश
राजनीति
राज्य
विदेश
व्यापार
स्पोर्ट्स
स्वास्थ्य

दुनिया में भारतीय अप्रवासी सबसे ज्यादा पैसा भेजते हैं स्वदेश

मुंबई     :   बदलते वक्त में ऐसे लोगों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है जो अपनी आजीविका के लिए देश से बाहर जाते हैं और वहां पर कमाई करने के बाद स्वदेश में अपने परिजनों के लिए पैसे भेजते हैं. इन पैसों से न सिर्फ परिवार को आर्थिक तौर पर राहत मिलती है बल्कि देश की अर्थव्यवस्था भी सुधरती है. 16 जून को इंटरनेशनल डे ऑफ फैमिली रीमिटन्स (IDFR) मनाया जाता है और इस दिवस पर एक नजर डालते हैं कि विदेश में बसे अप्रवासियों की ओर से सबसे ज्यादा पैसा किस देश के नागरिक भेजते हैं.
संयुक्त राष्ट्र (यूएन) के अनुसार दुनियाभर में करीब 20 करोड़ लोग आजीविका के लिए दूसरे देशों में जाते हैं और उनकी ओर से की गई कमाई से उनके परिजनों में शामिल करीब 80 करोड़ लोगों को फायदा होता है. इनमें से आधे से ज्यादा की आबादी ग्रामीण क्षेत्रों में रहती है जो इन पैसों के आने से अपना जीवन स्तर सुधारती है. बच्चों का भविष्य सुधरता है, साथ ही गरीबी और भुखमरी कम होती है. यह दिन इन्हीं 20 करोड़ आबादी को सम्मान देने के मकसद से 16 जून को मनाया जाता है.फरवरी, 2015 में इंटरनेशनल फंड ऑफ एग्रीकल्चर डेवलपमेंट (IFAD) में शामिल सभी 176 देशों की ओर से इंटरनेशनल डे ऑफ फैमिली रीमिटन्स (IDFR) मनाने का फैसला लिया गया और इसे पास कराने के लिए 2016 में संयुक्त राष्ट्र महासभा के पास भेजा गया. 13 मई 2018 को संयुक्त राष्ट्र ने इस अंतरराष्ट्रीय दिवस पर अपनी रजामंदी दे दी और इसके लिए 16 जून का दिन मुकर्रर किया गया.वर्ल्ड बैंक की तरफ से इसी साल अप्रैल में जारी रिपोर्ट के अनुसार अप्रवासियों की ओर से दुनियाभर में भेजा जाने वाला धन 2018 में 689 अरब डॉलर (आज की तारीख में करीब 4,80,81,45,16,00,000 रुपये) पर पहुंच गया जबकि 2017 में यह 633 अरब डॉलर (4,41,73,52,52,00,000 रुपये) पर था. विकासशील देश ही नहीं  बल्कि इसमें विकसित देशों में उनके नागरिकों की ओर से भेजा जाने वाली राशि भी शामिल है.इससे पहले 2017 में 20 करोड़ अप्रवासियों ने कमाई कर करीब 481 बिलियन डॉलर (3,35,62,97,75,00,000 रुपये) अपने परिजनों के पास भेजा, जिसमें अकेले विकासशील देशों के पास 466 बिलियन डॉलर (3,25,16,31,50,00,000 रुपये) भेजे गए. इस समय अप्रवासियों की ओर से सबसे ज्यादा पैसा भारत में ही भेजा जाता है.विश्व बैंक की रिपोर्ट के अनुसार, विदेश में बसे भारतीयों की ओर से प्रेषित धन को रिसीव करने के मामले में भारत ने 2018 में भी अपना पहला स्थान पर बरकरार रखा है. विश्व बैंक की यह रिपोर्ट कहती है कि अप्रवासी भारतीयों की ओर से पिछले साल 79 बिलियन डॉलर (आज की तारीख में करीब 55,10,64,50,00,000 रुपए) भारत भेजे गए थे.भारत के बाद चीन का नंबर आया और यहां पर 67 बिलियन डॉलर (46,75,09,25,00,000 रुपये) अप्रवासी चीनियों की ओर से अपने देश भेजा गया था. दक्षिण अमेरिकी देश मैक्सिको (36 बिलियन डॉलर), फिलीपींस (34 बिलियन डॉलर) और मिस्र (29 बिलियन डॉलर) के साथ शीर्ष 5 देशों की सूची में शामिल रहा.  साभार  आजतक

About Author Umesh Nigam

crime reporter.

No comments:

Post a Comment

Start typing and press Enter to search