[Latest News][6]

गैलरी
देश
राजनीति
राज्य
विदेश
व्यापार
स्पोर्ट्स
स्वास्थ्य

पिछली बार केंद्रीय मंत्री रहे कई बड़े नेता इस बार मोदी कैबिनेट से बाहर

नई दिल्ली  :   बीजेपी नेता सुषमा स्वराज, अरुण जेटली, मेनका गांधी, सुरेश प्रभु, जेपी नड्डा, राधामोहन सिंह जैसे नेता इस बार मोदी सरकार में मंत्री नहीं बनाए गए हैं. उन्होंने गुरुवार को आयोजित समारोह में शपथ नहीं ली जबकि पिछली बार सरकार में ये नामी चेहरे थे. केंद्रीय मंत्रियों के अलावा कई राज्य मंत्रियों को भी इस बार मोदी सरकार में मौका नहीं मिला है. इन नेताओं में राज्यवर्धन सिंह राठौर, महेश शर्मा, जयंत सिन्हा, एसएस अहलुवालिया, विजय गोयल, के. अल्फोंस, रमेश जिगजिनागी, रामकृपाल यादव, अनंत कुमार हेगड़े, अनुप्रिया पटेल, सत्यपाल सिंह के नाम हैं. ये लोग पिछली सरकार में राज्य मंत्री थे जबकि इस सरकार में इनका नाम नहीं आया.
अरुण जेटली,  मेनका गांधी, महेश शर्मा, सुरेश प्रभु, उमा भारती, राधा मोहन सिंह, अनंत सिंह गीते, अनंत कुमार हेगड़े, रामकृपाल यादव, मनोज सिन्हा, चौधरी बीरेंद्र सिंह, जुएल ओरम, अल्फोंस, विजय गोयल, एसएस अलुवालिया, हंसराज अहीर, जयंत सिन्हा, अश्विनी कुमार चौबे, शिवप्रताप शुक्ला, सुदर्शन भगत, विजय सापला, अजय टम्टा, पीपी चौधरी, सत्यपाल सिंह, कृष्णा राज, सुभाष भामरे, छोटू राम चौधरी, राजेन गोहिन, विष्णुदेव साई, रमेश चंदप्पा, पोन राधाकृष्णन को इस बार सरकार में जगह नहीं मिली है.इन मंत्रियों में के. अल्फोंस अकेले नेता हैं जो इस बार का लोकसभा चुनाव हारे हैं, बाकी सभी नेताओं ने विजय हासिल की है. संतोष गंगवार ने गुरुवार को मंत्री पद की शपथ ली है, इसलिए प्रोटेम स्पीकर के नाम पर मेनका गांधी के चर्चे जोरों पर हैं. कहा जा रहा है कि मेनका लोकसभा में प्रोटेम स्पीकर का काम संभाल सकती हैं.इस बार की कैबिनेट में दो नाम चौंकाने वाले हैं जो गायब हैं. सुषमा स्वराज और अरुण जेटली को भी मोदी कैबिनेट में जगह नहीं मिली है. सुषमा स्वराज ने तबीयत का हवाला देते हुए चुनाव लड़ने से इनकार किया था जबकि अरुण जेटली की सेहत ऐसी नहीं है कि वे मंत्री पद का कार्यभार संभाल सकें. सुषमा स्वराज मोदी सरकार की पूर्ववर्ती कैबिनेट में विदेश मंत्री थीं और इसबार उन्होंने लोकसभा का चुनाव नहीं लड़ा था. उन्होंने कहा था कि उनका स्वास्थ्य लोकसभा चुनाव लड़ने और प्रचार करने की इजाजत नहीं देता है.बतौर विदेश मंत्री वे प्रवासी भारतीयों के बीच अपने कामकाज की वजह से काफी लोकप्रिय रही थीं. इसके अलावा एक ट्वीट मात्र पर कई लोगों की मदद के लिए भी उन्हें याद किया जाएगा. 2004 से 2014 तक यूपीए सरकार के कार्यकाल के दौरान सुषमा स्वराज लोकसभा में विपक्ष की नेता थीं और उनका कार्यकाल सफल रहा था. पहले रेलवे जैसा अहम मंत्रालय संभालने और बाद में वाणिज्य व उद्योग और नागर विमानन मंत्री का कार्यभार संभालने वाले सुरेश प्रभु को भी कैबिनेट में शामिल नहीं किया गया है.मोदी सरकार के पिछले कार्यकाल में नड्डा स्वास्थ्य मंत्री थे और इस बार उनका नाम भी मंत्रियों की सूची में शामिल नहीं है. हालांकि इस बात के कयास लगाए जा रहे हैं कि वह अमित शाह के स्थान पर बीजेपी अध्यक्ष बनाए जा सकते हैं, जिन्हें कैबिनेट में शामिल किया गया है. पूर्व ओलंपियन और खेल और सूचना, प्रसारण मंत्रालय का सफलता पूर्वक कार्यभार संभालने वाले राठौर को भी मंत्रिपरिषद में शामिल नहीं किया गया है.पूर्ववर्ती सरकार में पर्यटन और संस्कृति मंत्री रहे महेश शर्मा को भी मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिली है. जयंत सिन्हा ने पूर्ववर्ती सरकार में पहले केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री और बाद में केंद्रीय नागर विमानन राज्य मंत्री का कार्यभार संभाला था लेकिन उन्हें भी इस बार मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिली है. जयंत सिन्हा पूर्व बीजेपी नेता यशवंत सिन्हा के बेटे हैं, जो प्रधानमंत्री मोदी के कटु आलोचक रहे हैं. साभार  आजतक

About Author Umesh Nigam

crime reporter.

No comments:

Post a Comment

Start typing and press Enter to search