[Latest News][6]

गैलरी
देश
राजनीति
राज्य
विदेश
व्यापार
स्पोर्ट्स
स्वास्थ्य

56% बढ़ा अडानी एंटरप्राइजेज का मुनाफा

मुंबई  :     अडानी समूह ने कर्ज संकट से दबी जेपी इंफ्राटेक को खरीदने के लिए स्वैच्छिक रूप से बोली लगाई है. साथ ही अडानी समूह फंसी हुई आवासीय परियोजनाओं के निर्माण में तेजी लाने के लिए 1,700 करोड़ रुपये की पूंजी डालने के लिए भी तैयार है. दूसरी तरफ, अडानी समूह की कंपनी अदानी एंटरप्राइजेज के तिमाही मुनाफे में 56 फीसदी   बढ़ोतरी हुई है.
सूत्रों के हवाले से यह जानकारी दी है. अडानी समूह ने कर्मचारियों के साथ-साथ सुरक्षित और असुरक्षित वित्तीय कर्जदाताओं के दावों के निपटान के लिए 1,000 करोड़ रुपये और देने की प्रतिबद्धता जताई है. यह राशि 500-500 करोड़ रुपये की दो किस्तों में दी जाएगी. कंपनी एसेट के साथ कर्ज की अदला – बदली के लिए बैंकरों को 1,000 एकड़ जमीन भी हस्तांतरित करेगी. यह प्रस्ताव गैर- बाध्यकारी है यानी इसे स्वीकार करना या अस्वीकार करना जेपी पर निर्भर है.अडानी समूह ने दिवाला प्रक्रिया की पहले दौर में हिस्सा लिया था, लेकिन मौजूदा दौर में तय समयसीमा में बोली नहीं जमा की थी. हालांकि, बाद में अडानी समूह ने जेपी इंफ्राटेक के अधिग्रहण के लिए बोली लगाने की इच्छा जताई थी. जेपी इंफ्रा, जेपी समूह की प्रमुख कंपनी जयप्रकाश एसोसिएट्स की सहयोगी कंपनी है.खबर के मुताबिक अब अडानी इंफ्रास्ट्रक्चर ऐंड डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड ने जेपी इंफ्राटेक के अंतरिम समाधान पेशेवर (आईआरपी) अनुज जैन को समाधान योजना जमा की है. समाधान पेशेवर ने सार्वजनिक कंपनी एनबीसीसी की ओर से जमा की गई समाधान योजना पर बातचीत के लिए कर्जदाताओं की समिति (सीओसी) की बैठक बुलाई है. एजेंसी सूत्रों के मुताबिक सीओसी की बैठक के एजेंडे में अडानी समूह की बोली पर विचार करना शामिल नहीं है, लेकिन कर्जदाता और मकान खरीदार बैठक के दौरान प्रस्ताव पर चर्चा करने का निर्णय ले सकते हैं. अडानी समूह ने अपनी बोली में ‘जेपी इंफ्रा की रीयल एस्टेट परियोजनाओं के निर्माण में तेजी लाने और घर खरीदारों को कब्जे की डिलिवरी करने के उद्देश्य 1,700 करोड़ रुपये की पेशकश की है.’अडानी ने अपनी पेशकश में कहा कि यदि सुप्रीम कोर्ट और राष्ट्रीय कंपनी कानून न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) मंजूरी देते हैं तो जयप्रकाश एसोसिएट्स द्वारा घर खरीदारों की सुरक्षा के लिए जमा किए गए 750 करोड़ रुपये की राशि का उपयोग जुर्माने / ब्याज के भुगतान में किया जा सकता है.  मार्च की तिमाही में अडानी समूह की कंपनी अडानी एंटरप्राइजेज के मुनाफे में 56.45 फीसदी की जबरदस्त बढ़त हुई है. मार्च 2019 की तिमाही में कंपनी का शुद्ध लाभ 283.44 करोड़ रुपये रहा, जबकि मार्च 2018 में कंपनी को 181.17 करोड़ रुपये का लाभ हुआ था. इस दौरान कंपनी की कुल बिक्री 29 फीसदी बढ़कर 13,236.62 करोड़ रुपये तक पहुंच गई.  साभार  आजतक

About Author Umesh Nigam

crime reporter.

No comments:

Post a Comment

Start typing and press Enter to search