[Latest News][6]

गैलरी
देश
राजनीति
राज्य
विदेश
व्यापार
स्पोर्ट्स
स्वास्थ्य

शाह का डिनर और मोदी का एजेंडा 2022, नतीजों से पहले ऐसा रहा NDA का जश्न

नई दिल्ली  :   लोकसभा चुनाव के नतीजे आने में बस कुछ घंटे बाकी हैं, लेकिन बीजेपी और उसके सहयोगियों यानी एनडीए में पार्टी शुरू हो चुकी है. मंगलवार की शाम एनडीए दलों के बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने डिनर पार्टी का आयोजन किया. इस पार्टी में एनडीए के सभी घटक शामिल हुए.  शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे लंदन से विशेष डिनर के लिए दिल्ली पहुंचे तो बिहार के सीएम और जेडीयू के अध्यक्ष नीतीश कुमार ने भी डिनर में मौजूदगी दर्ज कराई. यहां एनडीए के नेताओं ने पीएम मोदी का सम्मान किया और अगली सरकार के लक्ष्यों पर मंथन किया.  अमित शाह के डिनर के लिए नीतीश कुमार हों या शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे. पंजाब से सीनियर बादल और जूनियर बादल. रामबिलास पासवान और उनके बेटे चिराग. एनडीए का कुनबा डिनर में मौजूद रहा.  सिर्फ तीन सहयोगी इस डिनर में शामिल नहीं हो पाए, लेकिन चिट्ठी लिखकर समर्थन का भरोसा जता दिया. डिनर के साथ पीएम मोदी के उन वादों को भी पूरा करने पर मंथन हुआ, जो उन्होंने देश के एक अरब तीस करोड़ लोगों से किया. इस मौके पर एक प्रस्ताव भी पास किया गया. एनडीए ने एक मंच पर आकर संदेश दिया कि हम साथ-साथ हैं. NDA की बैठक और डिनर डिप्लोमेसी के बाद एक प्रस्ताव पास किया गया, जिसमें पीएम मोदी के नेतृत्व की तारीफ में कसीदे पढ़े गए. प्लान 2022 पर चर्चा हुई. मोदी ने कहा कि गरीबी से बड़ी कोई जाति नहीं, इसका समाधान जरूरी है. अमित शाह के डिनर में सियासत का हर रंग दिखा. उत्तर से दक्षित तक और पूरब से पश्चिम तक की नुमाइंदगी दिखी. लजीज पकवानों के साथ एनडीए के इस डिनर में उस मिशन की बात हुई, जिसे पूरा करने की डेडलाइन पहले से पीएम मोदी ने तय कर रखी है. एनडीए ने भी अपने प्रस्ताव में साफ कर दिया कि अब लोगों की उम्मीदों को पूरा करने का समय आ गया है? पीएम मोदी सिर्फ एनडीए के सहयोगियों से ही नहीं मिले, अपने मंत्रियों से मिले. पिछले 5 साल के काम-काज का हिसाब-किताब हुआ. अगले पांच साल के प्लान पर चर्चा हुई. अगर एक्जिट पोल के नतीजे हकीकत में बदले तो प्रधानमंत्री मोदी की एक नई टीम बनेगी, जिसके सामने होगा मोदी का मिशन 2022. प्रस्ताव के बारे में बताते हुए गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, ‘पीएम ने कहा है कि देश को जात-पात, ऊंच-नीच के नैरेटिव से बाहर आना होगा और गरीब ही सबसे बड़ी जाति है, हमें उसी समस्या का समाधान करना है.’ बीजेपी का कहना है कि पीएम मोदी को अपना एक-एक वादा याद. वो आजादी की 75वीं सालगिरह के मौके पर एक चमकता-दमकता भारत देखना चाहते हैं, जिसमें लोगों को गरीबी से आजादी मिले. रोटी, कपड़ा और मकान की किसी को चिंता न हो. साभार  आजतक

About Author Umesh Nigam

crime reporter.

No comments:

Post a comment

Start typing and press Enter to search