[Latest News][6]

गैलरी
देश
राजनीति
राज्य
विदेश
व्यापार
स्पोर्ट्स
स्वास्थ्य

IAF का मिशन फेल होता तो किसका इस्तीफा मांगते

अहमदाबाद: भारतीय वायुसेना की एयर स्ट्राइक पर सवाल उठाने और सबूत मांगने वालों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जमकर खरी-खोटी सुनाई. गुजरात के अहमदाबाद में जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने विपक्ष से सख्त लहजे में कहा, ‘अगर मोदी को गाली देना है तो दो, लेकिन सेना को क्यों बदनाम करते हो? मैं सेना का अपमान कतई बर्दाश्त नहीं कर सकता हूं.’
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह और पंजाब के कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू समेत कई विपक्षी नेताओं ने एयर स्ट्राइक पर सवाल उठाए हैं. साथ ही आतंकियों के मारे जाने के सबूत भी मांगे हैं. वहीं, सोमवार को इस बात का खुलासा हुआ कि जब भारतीय वायुसेना ने बालाकोट स्थित जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों पर हमला बोला था, तो वहां 280 से ज्यादा मोबाइल एक्टिव थे. ऐसे में माना जा रहा है कि वायुसेना की कार्रवाई के दौरान जैश के कैंप में 280 से ज्यादा आतंकी मौजूद थे. यह देश का दुर्भाग्य है कि विपक्षी पार्टियों के नेताओं के बयान पाकिस्तान के अखबारों की हेडलाइन बनते हैं.. विपक्षी दलों के नेताओं की बयानबाजी से पाकिस्तान की संसद में चर्चा होती है और तालियां बजती हैं. . 40 साल से आतंकवाद हिन्दुस्तान के सीने में गोलियां दाग रहा है, लेकिन वोट बैंक की राजनीति में डूबे लोग कदम उठाने से डरते थे.. प्रधानमंत्री मोदी ने पूछा कि 40 साल से आतंकवाद की पीड़ा देश झेल रहा था, लेकिन पूर्ववर्ती सरकारों ने कोई कार्रवाई क्यों नहीं की.. सेना का सम्मान करने पर विपक्ष के पेट में दर्द क्यों होता है?. प्रधानमंत्री ने कहा कि मोदी को गाली दो, लेकिन नहीं सहूंगा सेना का अपमान.. प्रधानमंत्री मोदी ने विपक्ष के आरोपों को किया खारिज, कहा- मुझे नहीं है सत्ता की फिक्र, सिर्फ देश की है चिंता.. भारतीय वायुसेना द्वारा आतंकियों के खिलाफ एयर स्ट्राइक करने पर विपक्षी पार्टियों और उनके नेताओं के पेट में दर्द क्यों होता है?. प्रधानमंत्री मोदी ने विपक्ष से दागे सवाल, पूछा- अगर भारतीय वायुसेना का मिशन फेल होता, तो किसका इस्तीफा मांगा जाता.. पीएम मोदी ने कहा कि हमारी सरकार की विशेषता है कि एक काम खत्म होते ही दूसरा काम शुरू हो जाता है. एक काम खत्म होने पर हम सोते नहीं हैं और दूसरी की तैयारी करते हैं. साभार आजतक

About Author Umesh Nigam

crime reporter.

No comments:

Post a Comment

Start typing and press Enter to search