[Latest News][6]

गैलरी
देश
राजनीति
राज्य
विदेश
व्यापार
स्पोर्ट्स
स्वास्थ्य

PRC के मुद्दे पर सुलगा अरुणाचल प्रदेश, 2 प्रदर्शनकारियों की मौत, सेना ने संभाला मोर्चा

नई दिल्ली: स्थायी निवास प्रमाणपत्र (PRC) के मुद्दे पर अरुणाचल प्रदेश में जारी विरोध प्रदर्शन ने भीषण हिंसा का स्वरूप ले लिया है. रविवार को प्रदेश के हालात इतने खराब हो गए थे कि प्रदर्शनकारियों ने प्रदेश के उपमुख्यमंत्री चोवना मेन का घर ही जला दिया. केंद्र और राज्य सरकार की ओर से हालात को काबू में करने की कोशिशें जारी हैं, लेकिन हालात लगातार बेकाबू होते जा रहे हैं. अभी भी पूरे राज्य में इंटरनेट सस्पेंड किया हुआ है और कई जिलों में धारा 144 लागू की गई है. पुलिस फायरिंग में दो लोगों की मौत हो गई है, जबकि कई घायल हैं.
बिगड़ते हालात को देखते हुए मुख्यमंत्री पेमा खांडू के आवास समेत महत्वपूर्ण इमारतों के पास सेना की तैनाती कर दी गई है. सूत्रों की मानें तो केंद्र सरकार राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने पर विचार कर रही है. हिंसक हुए प्रदर्शनकारियों की नाराजगी दूर करने के लिए मुख्यमंत्री पेमा खांडू अपना इस्तीफा भी दे सकते हैं. ईटानगर में कानून-व्यवस्था की स्थिति को बहाल करने के लिए ITBP की 6 कंपनियों को तैनात किया गया है. प्रदर्शनकारी लगातार वाहनों को जला रहे हैं, इसके अलावा दुकानों और शॉपिंग मॉल को भी लूटा जा रहा है. वहीं नाहरलागुन हाईवे पर प्रदर्शनकारी रास्ता रोके हुए हैं. ITBP की फायरिंग में मारे गए छात्र के शव के साथ हजारों लोग ईटानगर के इंदिरा गांधी पार्क में जुटे हुए हैं. वे अंतिम संस्कार के लिए वहां पर खुदाई कर रहे हैं. सभी प्रदर्शनकारी हाईवे पर पत्थरों के साथ खड़े हैं, सुरक्षाबलों में किसी भी तरह की हरकत होते ही ये लोग पत्थरबाजी भी कर रहे हैं. हालात इतने बिगड़ते जा रहे हैं कि राज्यपाल, मुख्यमंत्री, नेताओं की अपील भी काम नहीं आ रही है. साभार आजतक

About Author Umesh Nigam

crime reporter.

No comments:

Post a Comment

Start typing and press Enter to search