[Latest News][6]

गैलरी
देश
राजनीति
राज्य
विदेश
व्यापार
स्पोर्ट्स
स्वास्थ्य

मुजफ्फरनगर के पास कलिंग उत्कल एक्सप्रेस हुई दुर्घटनाग्रस्त

नई दिल्ली: हरिद्वार से पुरी के बीच चलने वाली कलिंग उत्कल एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्त हो गई. उप्र के मुजफ्फरनगर के खतौली के पास हुए इस हादसे में ट्रेन की 14 बोगियां पटरी से उतर गई जिसके कारण 23 यात्रियों की मौत हो गई जबकि 72 अन्य घायल हो गए. उत्तर प्रदेश पुलिस ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया कि इस हादसे में 23 लोगों की मौत हुई है जबकि दर्जनों घायल हुए हैं जिन्हें उपचार के लिए अस्पतालों में भर्ती कराया गया है.
घटना के तुरंत बाद स्थानीय लोग घटना स्थल पर पहुंचे ओर घायल लोगों की मदद की. कुछ ही देर बाद स्थानीय प्रशासन के अधिकारी और इमरजेंसी सेवाएं मौके पर पहुंच गईं और राहत काम मे जुट गईं. दिल्ली से एनडीआरएफ की टीम ने पहुंच कर रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया. इस हादसे में ट्रेन के 2 डिब्बे पटरी से उतर कर रिहाइशी इलाके में जा घुसे जिससे एक स्कूल और घर बुरी तरह क्षतिग्रस्त हुए हैं. स्थानीय निवासियों के अनुसार रेल ट्रैक पर 2 दिनों से काम चल रहा था. हादसे का शिकार हुई ट्रेन से पहले इसी ट्रैक से दो ट्रेनें कुछ ही देर पहले धीमी गति से गुजरी थीं. बताया जा रहा है कि उत्कल एक्सप्रेस की गति तेज थी जब ये हादसा हुआ. अनुमान लगाया जा रहा है कि ट्रेन को खतरे का सिग्नल नहीं मिला होगा जिस वजह से ट्रेन की गति कम नहीं हुई. जिलाधिकारी जीएस प्रियदर्शी के अनुसार सभी घायलों का उपचार विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है. मुख्य मेडिकल अधिकारी पी. एस. मिश्रा और मेरठ जोन के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजीपी) प्रशांत कुमार ने बताया कि शाम 5:45 बजे हुई इस दुर्घटना में कम से कम 11 लोग मारे गए और 60 जख्मी हुए हैं. खतौली मुजफ्फरनगर से करीब 40 किलोमीटर दूर है. पीएसी, एटीएस और एनडीआरएफ की टीमों को घटनास्थल के लिए रवाना किया गया है. भारी-भरकम क्रेनों और गैस कटरों का इस्तेमाल किया जा रहा है. स्थानीय लोगों को बचाव के काम में मदद करते देखा गया. मुजफ्फरनगर के अधिकारियों ने प्रभावित परिवारों की मदद के लिए एक कंट्रोल रूम बनाया है. इस कंट्रोल रूम के फोन नंबर हैं – 0131-2436918, 0131-2436103 और 0131-2436564. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस हादसे पर गहरा दुख व्यक्त किया और कहा कि रेल मंत्रालय एवं राज्य सरकार प्रभावित लोगों को हरसंभव मदद मुहैया कराने के लिए हरसंभव कदम उठा रही है. उन्होंने कहा कि रेल मंत्रालय की ओर से हालात की करीबी तौर पर निगरानी की जा रही है. रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने ट्रेन के पटरी से उतरने की इस घटना की जांच के आदेश दिए हैं. उन्होंने कहा कि वह खुद हालात पर नजर रखे हुए हैं और किसी तरह की चूक का पता चलने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी. प्रभु ने हादसे में जान गंवाने वालों के परिजन को 3.5 लाख रुपये का मुआवजा और गंभीर रूप से घायलों को 50,000 रुपये जबकि मामूली तौर पर घायलों को 25,000 रुपये की सहायता राशि देने का ऐलान किया.कई ट्वीट कर प्रभु ने यह भी कहा कि रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा घटनास्थल के लिए रवाना हुए हैं और रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष एवं सदस्य (यातायात) से कहा गया है कि वे राहत और बचाव अभियान की निगरानी करें. राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की दो टीमों और दो खोजी कुत्तों को घटनास्थल के लिए रवाना किया गया है. मेडिकल वैन भी घटनास्थल के लिए भेजे गए हैं. एनडीआरएफ की एक टीम में 45 जवान होते हैं. साभार ndtv

About Author Umesh Nigam

crime reporter.

No comments:

Post a Comment

Start typing and press Enter to search