[Latest News][6]

गैलरी
देश
राजनीति
राज्य
विदेश
व्यापार
स्पोर्ट्स
स्वास्थ्य

जनसंपर्क मंत्री की संवेदनशीलता


भोपाल: दतिया के ज्ञानदीप सक्सेना पर आफत का पहाड़ तब टूटा जब उसके कर्मचारी पिता रामप्रकाश मालौटिया की लंबी बीमारी से मृत्यु हो गई। ज्ञानदीप को यह नहीं सूझ रहा था कि बीमारी के खर्च से डूब चुके परिवार को कैसे संभाला जाए। जनसम्पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र को जब यह जानकारी मिली तो उन्होंने कलेक्टर मदन कुमार से बात की। कलेक्टर के निर्देश पर तत्काल जरूरी कागजात तैयार किए गए और रामप्रकाश मालौटिया की मृत्यु के एक हफ्ते के भीतर अनुकंपा नियुक्ति का आदेश तैयार किया गया।
जनसम्पर्क मंत्री ने स्वयं श्री मालौटिया के घर जाकर शोक संवेदना व्यक्त करते हुए पीड़ित परिवार को सांत्वना दी और उनके पुत्र श्री ज्ञानदीप सक्सेना को कलेक्ट्रेट में उनके पिता के स्थान पर अनुकंपा नियुक्ति का आदेश प्रदान किया। मध्यप्रदेश सरकार तथा उसके मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र के एक नहीं अनेक ऐसे उदाहरण है जहां उन्होंने अति-संवेदनशीलता का परिचय दिया है। कलेक्टर मदन कुमार ने बताया कि जनसम्पर्क मंत्री के आदेश पर मैने अपने अल्प कार्यकाल में 10 और व्यक्तियों को इसी प्रकार की अनुकंपा नियुक्ति दी है। जिन व्यक्तियों को हाल ही में अनुकंपा नियुक्ति दी गई, उनमें सहायक वर्ग-तीन पूनम श्रीवास्तव, प्रियंका गुप्ता, प्रशांत भौड़ेले, शिवी सक्सेना एवं भृत्य के पद पर प्रभा अहिरवार, रविकांत शिंदे, अवधेश अहिरवार, सुनील अहिरवार, मनीराम केवट, सूरजवती पटवा के नाम शामिल है।

About Author Umesh Nigam

crime reporter.

No comments:

Post a Comment

Start typing and press Enter to search